दिल चाहता है कि फिर से टीम इंडिया में शामिल हो जाउं : श्रीसंत

विवाद ने शांताकुमारन श्रीसंत का कभी पीछा नहीं छोड़ा। अंतिम गेंद पर कैच पकड़ कर भारत को पहला 20-20 वर्ल्ड कप दिलाने वाले इस गेंदबाज ने कभी थप्पड़ खाए तो कभी साइमंड्स को उसी के घर में छक्का मार कर क्रिकेट प्रेमियों को खुशियां दी। लेकिन साल 2013 में आइपीएल के दौरान फिक्सिंग में ऐसे फंसे कि जेल तक जाना पड़ा। पांचवे सेलिब्रिटी क्रिकेट लीग खेलने वह रांची आए। पेश है उनसे बातचीत के अंश…

17 नवंबर 2015

फोटो क्रेडिट – मुकेश भट्ट

 

अभी लाइफ कैसी चल रही है 
देश के लिए नहीं खेल रहा हूं। बाकि सबकुछ बहुत बढ़िया चल रहा है। परिवार और प्रशंसकों का पूरा साथ मिल रहा है। जो हुआ वह बहुत अच्छा हुआ। केस जल्दी खत्म होनेवाला है। जरूरी है खुश रहना।

कौन – कौन से प्रोजेक्ट आपके हाथ में है? 
मैं आगे देख रहा हूं। महेश और पूजा भट्ट ने मेरे पर विश्वास किया है। कैबरे फिल्म में महत्वपूर्ण भूमिका कर रहा हूं। मई में श्रीलंका, मॉरिसस और दुबई में शूटिंग होने जा रही है। झलक दिखला जा ने मेरे खोए आत्मविश्वास को वापस कर दिया है। इसके साथ ही एक हॉरर मूवी भी कर रहा हूं।

क्रिकेट को कितना मिस करते हैं ? 
दिल चाहता है कि एक बार फिर टीम इंडिया से जुड़ जाउं। उसके साथ बिताए पल को हर दिन मिस करता हूं। देश के लिए खेलूं। हर दिन नेट पर प्रैक्टिस कर रहा हूं। नवंबर तक मेरे ऊपर लगे बैन के हटने के चांस हैं। इसके बाद क्लब, रणजी में अपना बेस्ट दूंगा। मुझे पूरी उम्मीद है कि एक बार फिर देश के लिए खेलूंगा।

कठिन समय में होनेवाली पत्नी ने खूब साथ दिया 
बहुत किस्मत वाले लोग होते हैं जिनकी पत्नी उनपर विश्वास करती है। साल 12 में हम शादी करनेवाले थे, लेकिन दोनो घुटनों का ऑपरेशन कराना पड़ा। 13 में मैं आइपीएल कंट्रोवर्सी में फंस गया। लेकिन पत्नी और उनके परिवार वालों नें मुझ पर भरोसा किया। कई चीजें मेरे हाथ में नहीं होती है।

किस इंडियन प्लेयर ने आपका साथ दिया ?
उस वक्त मैं रणजी खेल रहा था। पूरी टीम ने हिम्मत दी।

सचिन तेंदुलकर ने क्या कहा? 
अभी केस चल रहा है, किसी का नाम नहीं लूंगा। एक बार केस खत्म होने दीजिए, सबके बारे में बताउंगा। कई लोग तो कोच्ची मेरे घर आकर सांत्वना दे गए।

क्रिकेट के बाद डांस और एक्टिंग देखा, क्या बचा है? 
अभी मेरे अंदर क्रिकेट काफी बचा हुआ है। सीसीएल से इसलिए जुड़ा कि लगातार प्रैक्टिस में रहूं।

रांची पहली बार आए हैं? 
हां, धौनी भाई के घर पहली बार आया हूं। मैं उनके घर जाना चाहता था। लेकिन वह घर पर हैं नहीं, ऑस्ट्रेलिया में हैं। शायद अगली बार मुलाकात हो जाए। यह बात तो सही है कि स्टेडियम बहुत ही शानदार मिला है रांची को।

Please follow and like us:

Comment via Facebook

comments